Month: August 2021

तोर संग जाऊँ ना रे

तोरे संग जाऊँ ना रे, डर मोहे लागे, डर मोहे लागे सैंया डर मोहे लागे।। तोर संग जाऊँ ना रे…।। बीच रे बजरिया मोरी, बहिया मरोरी, तोरे संग ना रे सैया, करूँ कर जोरी। करूँ कर जोरी, नारे सैया करूँ कर जोरी।। तोरे संग जाऊँ ना रे…।। सांझ सवेरे सैया, बासुरी बजावै, छोटे लरिकन कहि, …

मैके की डगारिया

हमें जान न देही सझवेरिया, मैके की डगरिया। जाएँ तो जाएँ बस दुअरिया, लेवै पल कै खबरिया।। हमें जान न देही सझवेरिया…।। फोनवा पै आवै मोरी माई कै संदेसवा, जान न देन लागै पिया कै अदेसवा। फँसी हम तो री बीच हूँ भवरिया।। मैके की डगरिया…।। हमरे पिया तो सैया सारी कै किनारी, रहे दूर …

जिया मेरा नहीं माने

पिय देखन को जिया मेरा नहीं माने। आओ-आओ हमारे घर मन ठाने।। पिय देखन को जिया मेरा…।। लगि याद में मरूँ जिऊँ दिन रैना, आवै तुम्हारे बिना रे नहीं कछु बैना। बड़ो जुल्म सहूँगी यदि कतराने।। आओ-आओ हमारे घर…।। हिय याद पुकारे तोरे प्रिय मितवा, लगि याद है तोरी पिय जिय मितवा। दम श्वास रही …

मिलै ऐसन सजनवा

हमरे तो धनि-धनि भाग हो, मिलै ऐसन सजनवा। पिछले पुन्य मोरे जाग हो, मिलै ऐसन सजनवा।। मिलै ऐसन सजनवा…।। संग मोरे सोवै सैंया संग मोरे जागैं, संग-संग मोरे सखि मचिया री त्यागैं। सखि हमरे तिना री तोहू माँग हो।। मिलै ऐसन सजनवा…।। हमरे बिना रे सैंया रहि नहीं पावै, खेत खलिहनवा में बतियाँ बनावैं। मोहे …

याद करत हिय सजना

याद  करत  हिय  सजना,  संग  गोंइयाँ  कँगना । जग कै री कौनो सखि लोगना, लगेंनां मोहे सगेना।। याद करत हिय सजना…।। ऐ री पौनि मोरी बहना, पिय सन कहना। आवें सजन मोरे भवना, ना चाहूँ गहना।। याद करत हिय सजना…।। गये परदेस सखि सजना, मोरा जिया लगेगा। भूल न पाऊँ पल सजना, वो दिन अब …

मोहे परदेसिया कै री पीर

मोहे परदेसिया कै री पीर, दिल सखि झेलि न जाय। झेलि न जाय सखि नयन बहाये।। मोहे परदेसिया कै री पीर…।। सांझ सबेरे मोहे, दर्द लगाए, पल ही री मोरी सखि, याद न जाए। कब हरिहौ बलम तन पीर।। दिल सखि झेलि न जाऐ।। मोहे परदेसिया कै री पीर…।। बैन पिया कै मीठे, दिल मा …

वेटवा का दुल्हनियाँ

हँसि-हँसि बोले री बचनियाँ, मेलवा में सजनियाँ। बिटिया का लेहौं मैं बजनियाँ, वेटवा का दुल्हनियाँ।। लैहौ न तो मैं बतिऐहौ न तोसे, आऊँ न साँझ मैं मचनियां। मेलवा में सजनियाँ…।। गोरे-गोरे हथना में कंगना सजौवै, सांझ सकारे पिया तुमका रिझौवै। लेहौं पिया मैं करधनियाँ।। मेलवा में सजनियाँ…।। देखि हैं री मोरी सब गोरी या वदनियाँ, …

मन मोरा अटके

काहे री सतावै मोहे, जिया मोरा भटके। जिय मोरा भटके री, मन मोरा अटके।। काहे री सतावै मोहे…..।। देखि-देखि तरसूं  रे तोरी या चुनरिया, मोरे मन भाय गयी तोरी या मुदरिया। तोरी या मुदरिया हाँ तोरी या मुदरिया।। काहे री सतावै मोहे…।। मोरा मन अटक्यो री बरना कै लट पै, लागै मोहे डर अब जमुना …

सुबह मेरी

मेरे गीत के पंक्तियों में सदा हँसने वाले सुबह के चित चकोर रवि तुम । रम्य मनमोहक सृष्टि में सदा खिलने वाली हँसीन जलजा हो तुम । मस्ती में झुमने वाले हवाओं के झोंकों में लहराती गुलाब हो तुम । यादों के साथ जिंदगी में चलने वाले मेरे मधुर भावनाएं हो तुम । तारीफ़ करने …

प्यार के धुन गाए

चल रे हे मन तु जरा खुलकर जिए फिर ना कभी वापस आने वाली यह जिंदगी दोबारा । जिंदगी के दो पल ही तो है बस हँसकर जिए केवल दो दिन की जवानी, पर यही जिंदगानी । बचपन के यादों में खोकर चल तु मुस्कुराते जिए सारे  सपने मेरे आँखों में छिपाकर तु चल अब …