साँस में खैद कर लूँ

पिय तेरे हाथों में हाथ डालकर

कुछ दूर तेरे पीछे पीछे चलने की इच्छा ।

तेरे आँखों में मुस्कुराते

मेरे इश्क़ को देखने की इच्छा ।

तेरे हृदय के ऊपर सर रखकर

तोड़ी देर चैन से सोने की इच्छा ।

तेरे खुशी में ही यूं

मेरे जीवन की सार्थकता देखने की इच्छा ।

तेरे कल के सारे हँसीन दिनों में

मुझे हँसते हँसते रहने की इच्छा ।

मेरे गोद में पिय तुझे सुलाकर

पल पल प्यार करने की इच्छा ।

तेरे मन में धीरे से घुसकर

हृदय गढ़ पर घेरा डालने की इच्छा ।

तेरे दिल की धड़कन बनकर

तेरे हर साँस में बसने की इच्छा ।

तेरे खुशी के कारण सिर्फ मैं और मुझे ही बनने की इच्छा ।

मेरे मोहब्बत के जाल में

तुझे यूं फाँसकर रखने की इच्छा ।

मेरे हर साँस में पिय तुझे

कैदी बनाकर रखने की इच्छा ।

तेरे सब रातों की नींद को

खराब करके बेचैन करने की इच्छा ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *