स्वप्नप्रेमी प्रेमा

सुबह मेरी

मेरे गीत के पंक्तियों में सदा हँसने वाले सुबह के चित चकोर रवि तुम । रम्य मनमोहक सृष्टि में सदा खिलने वाली हँसीन जलजा हो तुम । मस्ती में झुमने वाले हवाओं के झोंकों में लहराती गुलाब हो तुम । यादों के साथ जिंदगी में चलने वाले मेरे मधुर भावनाएं हो तुम । तारीफ़ करने …

प्यार के धुन गाए

चल रे हे मन तु जरा खुलकर जिए फिर ना कभी वापस आने वाली यह जिंदगी दोबारा । जिंदगी के दो पल ही तो है बस हँसकर जिए केवल दो दिन की जवानी, पर यही जिंदगानी । बचपन के यादों में खोकर चल तु मुस्कुराते जिए सारे  सपने मेरे आँखों में छिपाकर तु चल अब …

मधुर मन में तेरे सपने पिया

मधुर मन में तेरे सपने पिया मान जाओ मेरी बात यों न तरसाओं । मेरे हर्षित आँखों में तुम पिया यों गुदगुदाई न करो तन काँप उठे । ठंडी पवन में मधुर यादें तेरे झूमकर मेरे पास आकर सपने सजाएँ । सेहमी सी मन को मीठी चुंबन दे पिया हृदय में भाव हलचल मचकर मुझे …

साँस में खैद कर लूँ

पिय तेरे हाथों में हाथ डालकर कुछ दूर तेरे पीछे पीछे चलने की इच्छा । तेरे आँखों में मुस्कुराते मेरे इश्क़ को देखने की इच्छा । तेरे हृदय के ऊपर सर रखकर तोड़ी देर चैन से सोने की इच्छा । तेरे खुशी में ही यूं मेरे जीवन की सार्थकता देखने की इच्छा । तेरे कल …

मुकदमा

गौर से देखना इस हँसीन चेहरे को कभी तुमने देखा इस चैन भरी आँखों में आँसू ? नहीं पिय देखा नहीं होगा । सच तो यह कि – प्रतिदन दो बूंदे आँसू टपकते तुमसे प्रेम करने‌ की जुल्म जो  हमने कर दी….। माफी की अर्जी भेजी अदालत में मुकद्दमा लड रहे सपने सारे कि – …

जलतरंगिनी

पवन के टंडे झोंकों के स्पर्श से मुस्कुराते चल पड़ी वह नदी उसके संग होले होले जंगल में हर्ष से झूमती जा रही यह  पावनी …. अंजाने में अगर मुलाकात पत्थर से हुई तो, उससे प्यार से मीठी बातें करती चली ये मानिनी…. तट पे मिले हंसों से बलकाती हुई नजरों से पिया से मिलने …